रंगों का त्यौहार होली (Holi) कब और क्यों मनाई जाती है

रंगों का त्यौहार होली कब और क्यों मनाई जाती है? “Holi” A Festival of Colors रंगों का त्यौहार होली (Holi) का नाम आते ही सबके मन में रंगों के गुब्बारे फूटने लगते हैं, सबके मन में एक हीं ख्याल आता है कि रंगों की दुनियाँ में, रंगों के बादल से रंगों की बारिश और उसमें भीगते …

रंगों का त्यौहार होली (Holi) कब और क्यों मनाई जाती है Read More »

होली का रंग कहीं फीका न हों जाए, बचपन कहीं खो न जाय

होली का रंग कहीं फीका न हों जाए, बचपन कहीं खो न जाय….. बुरा न मानो होली है…… Happy Holi…..   दोस्तों होली का रंग का अपना ही मजा है, बच्चे, जवान, बूढ़े सभी होली पे रंगों से खेलते हैं. परन्तु आज हमारे सामने एक सवाल है कि क्या आज कहीं होली का रंग फीका …

होली का रंग कहीं फीका न हों जाए, बचपन कहीं खो न जाय Read More »

बॉडी लैंग्वेज पढ़ने के कुछ अच्छे तरीके क्या हैं? शारीरिक भाषा को समझिये

बॉडी लैंग्वेज पढ़ने के कुछ अच्छे तरीके क्या हैं? बॉडी लैंग्वेज़ क्या है ? What is Body Language? How does it work? हमारे Gesture (अंग संकेत) व बॉडी पॉश्चर (अंग मुद्रा) को मिलाकर हमारी बॉडी लैंग्वेज बनती है. हमारे उठने-बैठने का तरीका, हाथ-पांव और आंखों की गति या eye movement ही बॉडी लैंगवेज़ कहलाता है. सभी …

बॉडी लैंग्वेज पढ़ने के कुछ अच्छे तरीके क्या हैं? शारीरिक भाषा को समझिये Read More »

चालाक हिरण और डरपोक बाघ की कहानी ” एक प्रेरणादायक कहानी”

चालाक हिरण और डरपोक बाघ की कहानी “एक प्रेरणादायक कहानी” एक बहुत हीं घना जंगल था, जो चारो ओर से पहाड़ों से घिरा हुआ था, उस जंगल में बहुत सारे तरह तरह के जानवर रहते थे, वहाँ एक चालाक हिरण और डरपोक बाघ भी रहता था. उसी जंगल में एक चालाक हिरण अपने दो युवा …

चालाक हिरण और डरपोक बाघ की कहानी ” एक प्रेरणादायक कहानी” Read More »

महाशिवरात्रि के पर्व का महत्त्व क्या है? और क्यों मनाई जाती है महाशिवरात्रि, हुई थी यह घटना

महाशिवरात्रि के पर्व का महत्त्व क्या है? और क्यों मनाई जाती है महाशिवरात्रि हिन्दु कैलेंडर के अनुसार शिवरात्रि तो हर महीने के त्रियोदशी को पड़ती है लेकिन महाशिवरात्रि के पर्व पुरे सालभर में एकबार हीं आती है. फाल्गुन मास की कृष्ण पक्ष की त्रियोदशी-चतुर्दशी को महाशिवरात्रि के पर्व को मनाया जाता है. इस बार 2019 में …

महाशिवरात्रि के पर्व का महत्त्व क्या है? और क्यों मनाई जाती है महाशिवरात्रि, हुई थी यह घटना Read More »

पानी पिने का तरीका क्या है? पानी कब, कैसे, और कितना पीना चाहिए?

पानी पिने का सही तरीका क्या है? क्या आप जानते हैं कि पानी कब? कैसे? और कितना पीना चाहिए?  What is the correct way to drink water? हममें से ज्यादातर लोग को पानी पिने का सही तरीका नहीं मालुम होगा, हमलोग पानी को इतना मामूली सा चीज समझते हैं कि हमें लगता है कि हम जब चाहें, …

पानी पिने का तरीका क्या है? पानी कब, कैसे, और कितना पीना चाहिए? Read More »

अविश्वनीय है कि F-16 को Mig-21 के पायलट ने मार गिराया, WC अभिनन्दन की जय हो

ये अविश्वनीय है कि F-16 को Mig-21 के पायलट ने मार गिराया Wing Commander अभिनन्दन की जय हो  ये अविश्वनीय है कि F-16 को Mig-21 के पायलट ने मार गिराया , ये एक आश्चर्यजनक घटना है क्योंकि F-16 Mig-21 की तुलना में एक ज़्यादा बेहतर air craft है फिर भी हमारे जांबाज फाइटर विंग Commander …

अविश्वनीय है कि F-16 को Mig-21 के पायलट ने मार गिराया, WC अभिनन्दन की जय हो Read More »

मातृभूमि कविता- वो वीर निराला भारत का, पुलवामा के शहीदों को समर्पित

मातृभूमि कविता- वो वीर निराला भारत का, पुलवामा के शहीदों को समर्पित मातृभूमि कविता  वो अंधकार में जिया नहीं, वो था अमर उजाला भारत का ; जो शहीद हो गया मातृभूमि के लिए, वो वीर निराला भारत का ; कौन कहता है, था वो कोई मतवाला, वो तो था भारत माँ का लाला ; जो …

मातृभूमि कविता- वो वीर निराला भारत का, पुलवामा के शहीदों को समर्पित Read More »

अटल विहारी वाजपेयी की कविता- नादान पड़ोसी को चेतावनी

अटल विहारी वाजपेयी की कविता- नादान पड़ोसी को कड़ा सन्देश नहीं चेतावनी  श्री अटल विहारी वाजपेयी की लिखी यह कविता आज के समय में हमारे पड़ोसी देश को लेकर उतनी हीं प्रासंगिक है जितनी तब थी. अटल जी कविता संग्रह ‘मेरी इक्यावन कविताएं’ से लिया गया यहाँ कविता मैं पुलवामा में शहीद अपने भारत माँ …

अटल विहारी वाजपेयी की कविता- नादान पड़ोसी को चेतावनी Read More »

पुलवामां में शहीद जवानों के लिए एक कविता “माँ के लिए शहीद बेटे की भावना”

पुलवामां में शहीद जवानों के लिए एक कविता “माँ के लिए शहीद बेटे की भावना” शहादत का सेहरा बांधे, मृत्यु से विवाह रचाता हुँ जन्मभूमि की रक्षा खातिर, अपनी भेंट चढ़ाता हुँ मैं तेरा बेटा बनकर आया, इस दुनियाँ में माँ लेकिन भारत माँ का बेटा बनकर, इस दुनियाँ से जाता हुँ माँ देख तिरंगा …

पुलवामां में शहीद जवानों के लिए एक कविता “माँ के लिए शहीद बेटे की भावना” Read More »